तनाव का मोटापे से क्या सम्बन्ध होता है।

Obesity and Depression

आपको यह स्वीकार करना होगा कि हम तनाव से कभी छुटकारा नहीं पा सकते। अगर कोई बच्चा है, तो वह अपनी पढ़ाई और परीक्षा के विषय में चिंता करेगा, अगर वह बड़ा है, तो वह अपनी जीविका के विषय में चिंता करेगा और अगर बूढ़ा है तो अपने बुढ़ापे के विषय मैं चिंता करेगा।

हमने अक्सर सुना है कि लोग चिंता में पतले हो जाते हैं, लेकिन यह भी काफी हद तक सच है कि लोग तनाव के कारण मोटे हो जाते हैं? यह सच है कि हमारा शरीर शारीरिक और मानसिक तनाव में अलग-अलग तरह से व्यवहार करता है। अगर आप भी चिंता के कारण मोटे हो रहे हैं, तो आप निश्चित रूप से इसके पीछे का कारण जानते हैं।

मुख्य बिंदु:

  • तनाव और मोटापा कैसे संबंधित हैं?
  • कोर्टिसोल क्या है?
  • तनाव कैसे आपका वजन बढ़ाता है?

तनाव और मोटापा कैसे संबंधित हैं?

जब भी आप तनावपूर्ण समय से गुज़र रहे होते हैं, तो उस समय आपके दिमाग को पता चलता है कि आपका शरीर मुश्किल में है और वह शरीर को एक प्रकार के हार्मोन को छोड़ने के लिए संकेत देता है। उसके बाद, एड्रेनालाईन और कोर्टिसोल प्रवाह अचानक बढ़ जाता है। कोर्टिसोल शरीर की ऊर्जा को बढ़ाने के लिए काम करता है, जिससे आपको जल्दी भूख लगती है।

और जब तक आप तनाव में रहते हैं, आपका शरीर लंबे समय तक कोर्टिसोल को पंप करता है, जिससे आपकी भूख बढ़ती है। सामाजिक तनाव खतरनाक वसा संचय और हृदय रोग से जुड़ा हुआ है तथा तनाव से पेट में चर्बी जमा हो जाती है और व्यक्ति मोटा हो जाता है।

तनाव हमारे शरीर को कई तरह से प्रभावित करता है, और इनमे से एक है वजन बढ़ना। जब हम तनाव में होते हैं, तो कोर्टिसोल हार्मोन का उत्पादन बढ़ता है और धीरे-धीरे वजन बढ़ता है।

 

कोर्टिसोल क्या है?

Cortisol and how to control it?

कोर्टिसोल आपके शरीर द्वारा स्वाभाविक रूप से निर्मित एक हार्मोन है। जब आप तनाव में होते हैं तो कोर्टिसोल आपके गुर्दे पर स्थित अधिवृक्क ग्रंथियों द्वारा बनता है। यह अस्थायी रूप से नियमित शारीरिक कार्यों को रोक देता है और आपके मेटाबोलिज्म को धीमा कर देता है। जबकि यह हार्मोन जीवित रहने के लिए आवश्यक है, परन्तु यह अधिक मात्रा में हानिकारक हो सकता है। विटामिन-डी कोर्टिसोल बनाने के लिए आवश्यक एक एंजाइम की प्रक्रिया रोक  सकता है। इसिलिए मैं अपने पेशेंट्स को सुबह की मंद धुप लेने की सलाह देती हूँ।

यदि किसी में बहुत अधिक कोर्टिसोल है तो क्या होगा?

  • मुख्य रूप से चेहरे, छाती और पेट में तेजी से वजन बढ़ना पतला हाथ और पैरों के विपरीत है।
  • एक निस्तब्ध और गोल चेहरा।
  • उच्च रक्तचाप।
  • हड्डियों की कमजोरी।
  • त्वचा में परिवर्तन (खरोंच और बैंगनी खिंचाव के निशान)
  • मांसपेशी में कमज़ोरी।
  • मिजाज, जो चिंता, अवसाद या चिड़चिड़ापन के रूप में दिखाई देता है।

इन संकेतों के मौजूद होने पर अपने विशेषज्ञ से संपर्क करें।

तनाव कैसे आपका वजन बढ़ाता है?

जब हम लंबे समय तक तनाव में होते हैं, तो हमारा शरीर कई अन्य परिवर्तनों से भी गुजरता है जो पाचन तंत्र और भूख को प्रभावित करते हैं। आइए हम आपको कुछ ऐसे कारण बताते हैं जिससे आपका वजन बढ़ता है।

1. मेटाबॉलिज्म का धीमा हो जाना: 

मेटाबोलिज्म की तीव्रता के कारण, हमारा शरीर सक्रिय और स्वस्थ रहता है। इसकी कमी के कारण, शरीर सुस्त और निष्क्रिय हो जाता है। ज्यादा भागदौड़ न कर पाना, जल्दी थक जाना जैसी चीजें होने लगती हैं। तनाव बढ़ाने वाला हार्मोन कोर्टिसोल आपके मेटाबोलिज्म को धीमा कर देता है, जिससे भूख लगती है और मन भोजन की ओर दौड़ने लगता है। ऐसे में व्यक्ति अधिक से अधिक खाने के बारे में सोचता है। 

2. ज्यादा भूख लगना:

जब भी कोई व्यक्ति तनाव की समस्या से जूझ रहा होता है। ऐसी स्थिति में, बहुत से लोग तनाव से बाहर निकलने के लिए खाने के बारे में सोचते हैं, और न चाहते हुए भी भूख लगने लगती है। अधिक खाने से वजन बढ़ना निश्चित है।

3. ब्लड शुगर:

अत्यधिक तनाव आपके ब्लड शुगर के स्तर को बढ़ने का कारण बनता है। थकान, बिगड़ते मूड के कारण हाइपरग्लेसेमिया जैसी स्थिति होती है। लंबे समय तक तनाव में रहने के कारण मेटाबॉलिक सिंड्रोम होता है जो स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक है। इससे कई बीमारियों का खतरा उत्पन्न हो जाता है। उनमें से एक है मधुमेह और दिल के दौरे की समस्या।

4. फैट का जमा होना: 

लंबे समय तक तनाव के कारण, शरीर में फैट का स्थान प्रभावित होता है। पेट में अतिरिक्त फैट के कारण शरीर का आकार बिगड़ता है।

5. फास्ट फूड:

विशेषज्ञों का मानना ​​है कि तनाव में फास्ट फूड खाना मोटापे का एक प्रमुख कारण है। तनाव के समय में, एक व्यक्ति अधिक से अधिक खाना खाता है, जो कि सही नही है । जिससे आसानी से वजन बढ़ने लगता है।

Effect of stress on obesity

निष्कर्ष


योग और प्राणायाम एक ऐसा तरीका है जो आपको तनाव से छुटकारा पाने में मदद करेगा। यह न केवल शरीर की चर्बी को कम करने में मदद करता है, बल्कि इससे मानसिक शांति भी मिलती है। इसके आलावा सही समय पर अपनी नज़दीकी विशेषज्ञ डॉक्टर की सलाह ले। याद रखें एक विशेषज्ञ ही आपकी शरीर रचना को समझकर आपको सही उपचार बता सकता हैं। 

तनाव से बचने के लिए अच्छी आदतों के साथ व्यस्त रहें। आप घूम के, अच्छी किताबें पढ़ के, व्यायाम करके, और आराम करके तनाव को दूर कर सकते हैं।

सही खाएं और खुद को सकारात्मक विचारों से लैस करें। यह तनाव से लड़ने में मदद करेगा।

%d bloggers like this: